बजे कुण्डलपर में बधाई

बजे कुण्डलपर में बधाई,
के नगरी में वीर जन्मे, महावीर जी
जागे भाग हैं त्रिशला माँ के,
के त्रिभवन के नाथ जन्मे, महावीर जी

हो… शुभ घडी जनम की आई,
सवरग से देव आये, महावीर जी
तेरा नवन करें मेरु पर
के, इंद्र जल भर लाए, महावीर जी

हो.. तुझे देवीआं झुलाये पलना,
मन में मगन हो के, महावीर जी
तेरे पलने में हीरे मोती,
के. गोरिओं में लाल लटके, महावीर जी

हो… अब ज्योति तेरी जागी
के सूर्य चाँद छिप जाए, महावीर जी
तेरे पिता लुटावें मोहरें
खजाने सारे खुल जाएंगे, महावीर जी

हो… हम दरश को तेरे आए
के पाप सब काट जाएंगे, महावीर जी
बजे कुण्डलपर में बधाई,
के नगरी में वीर जन्मे, महावीर जी

One comment

  • Praveen W Machale

    Jai Jinendra Earlier we had Bhaktambar stotra LP record which was song Husband wife and Sister in law. Husband wife were HOD of Sankskrit. Which was sung so beautifully that even by listening you were able to learnt. That record damaged and can not be used. . If someone get it might be available in other form. Please convey. Regards,

    Praveen Machale, Nagpur

Leave a Reply