Jai Jinendra 2 U

Jain Wallpapers, Jain Bhajan, Jain Chalisa, Jain Aarti And More...




Month: February 2016

एक बार प्रभु आओ चाहे आके चले जाना

एक बार प्रभु आओ, चाहे आके चले जाना,

जाने नहीं देंगे हम, तुम जाके तो दिखलाना

वो कौन घड़ी होगी, वो कौन सा पल होगा,

तेरा दर्शन कर भगवन, मेरा जनम सफल होगा,

एक पल की खातिर तुम, अब और ना तरसाना

एक बार प्रभु आओ, चाहे आके चले जाना,

जाने नहीं देंगे हम, तुम जाके तो दिखलाना…..

हमने तुझे पुजा है, मन वाणी कर्मों से,

दीदार की प्यासी है, आंखे कर्इ जन्मों से,

इक झलक दिखाके तुम, ये प्यास बुझा जाना

एक बार प्रभु आओ, चाहे आके चले जाना,

जाने नहीं देंगे हम, तुम जाके तो दिखलाना…..

मेरी आस बंधी तुमसे, ये आस ना तोड़ोगे,

ये दुनिया देख रही, विश्वास ना तोड़ोगे

हूं पूर्ण समर्पित मैं, मुझको नही ठुकराना

एक बार प्रभु आओ, चाहे आके चले जाना,

जाने नहीं देंगे हम, तुम जाके तो दिखलाना…..

तुझे हम ढूंढ रहे है कहां है देहरे वाले

तुझे हम ढूंढ रहे है,

कहां है देहरे वाले,

या तो अब सामने आ,

या हमे भी तु छुपालेतुझे हम

सफर में जि़न्दगी के,

कुछ ऐसे मोड़ आये,

जिन्हे समझा था अपना,

वो निकले पराये,

एक तेरा है सहारा,

गले से तु लगालेतुझे हम

दर्द से अपना रिश्ता,

पुराना हो गया है,

तेरी चाहत मे ये दिल,

दिवाना हो गया है,

सुन सदा धड़कनो की-2

हम है तेरे हवालेतुझे हम

डोर सांसो की टूटे,

जमाना चाहे रूठे,

यही बस आरजु है,

तेरा दामन ना छुटे,

तड़फते है तेरे बिन,

पास अपने बुलालेतुझे हम

एक दर पे भिखारी है,

एक दर पे भिखारी है,

बड़ा दीनदुखारी है,

तेरी बाट निहार रहा,

तेरा नाम पुकार रहा.. एक दर पे..

इस दिल में उदासी है,

आंखे दर्श की प्यासी है,

तेरे दर्शन हो जाये,

इच्छा ये जरा सी है,

सुनी सी आंखों से,

तेरा द्वार निहार रहा.. एक दर पे..

सुनते है तेरी रहमत,

हर ओर बरसती है,

हम पर भी दया कर दो,

हसरत ये मचलती है,

अब तो आ जाओं प्रभु,

तेरा बेटा पुकार रहा.. एक दर पे..

धन दौलत ना चाहिये,

ना चांदी ना सोना,

दे दो अपने दिल में,

एक छोटा सा कोना,

जी नही पायेंगे हम,

तेरा गर इन्कार रहा.. एक दर पे..

दुनियां के सताये है,

तेरी शरण में आये है,

कर दो कृपा अब हम पर,

हम ठोकरें खाये है,

अब थाम लो तुम दामन,

बैरी संसार रहा.. एक दर पे..

बरसा पारस सुख बरसा आंगन-2 सुख बरसा

बरसा पारस, सुख बरसा,

आंगन-2 सुख बरसा

चुन-2 कांटे नफरत के,

प्यार अमन के फूल खिलाबरसा पारस..

द्वेषभाव को मिटा,

इस सकल संसार से,

तेरा नित सुमिरन करें,

मिलजुल सारे प्यार से,

मानव से मानव हो ना जुदाआंगन-2

झोलियां सभी की तु,

रहमोंकरम से भर भी दे,

पीरपर्वत हो गर्इ,

अब तो कृपा कर भी दे,

मांगे तुझसे ये ही दुआआंगन-2

कोर्इ मन से है दुखी,

कोर्इ तन से है दुखी,

हे प्रभु ऐसा करो,

कुल जहान हो सुखी,

सुखमय जीवन सबका सदाबरसा पारस..

तुझे पिता कहुं या माता तुझे मित्र कहुं या भ्राता

तुझे पिता कहुं या माता,

तुझे मित्र कहुं या भ्राता,

सौ-2 बार नमन करता हूं

चरणों में झुका के माथातुझे पिता कहुं

हे परमेश्वर तेरी जग में,

है महिमा बहुत निराली,

तु चाहे तो बज जाये,

हर एक हाथ से ताली

हे प्रभु तेरी कुदरत का,

ये खेल समझ नही आतातुझे पिता कहुं

सती मैना ने तुझे पुकारा,

तुने पति का कोढ़ मिटाया,

मुनि मांनतुंग ने ध्याया,

सौ तालों को तोड़ गिराया,

कण-2 में तु बसा है,

पर कही नज़र नही आतातुझे पिता कहुं

है धरा पाप से बोझल,

तब हमने तुझे पुकारा,

अब धीरज ड़ोल रहा है,

तु दे दे हमे सहारा,

बिन तेरे इस दुनिया में,

हमे कोर्इ नज़र नही आतातुझे पिता कहुं

Page 1 of 212
Jai Jinendra 2 U © 2016