Jai Jinendra 2 U

Jain Wallpapers, Jain Bhajan, Jain Chalisa, Jain Aarti And More...




मैं तेरी महर की नज़र चाहता हुं


मैं तेरी महर की नज़र चाहता हुं,

दुआओं में अपनी असर चाहता हुं,

मैं तेरी महर की नज़र चाहता हुं,

दुआओं में अपनी असर चाहता हुं, मैं तेरी महर

तमन्ना मचलके ये गाने लगी है,

तेरी याद भगवन सताने लगी है,

तुझे हालेदिल की ख़बर चाहता हुं,

दुआओं में अपनी असर चाहता हुं, मैं तेरी महर

तरसते है नैना ओ महावीर आओं,

तुम्हारे है हम युं ना हमको सताओं,

इबादत तेरी हर पहर चाहता हुं,

दुआओं में अपनी असर चाहता हुं, मैं तेरी महर

मेरे दिल की सुनी महफिल सजादे,

तुझे कैसे पाउ ये तुही बतादे

जो तुझसे मिला दे, सफर चाहता हूं

दुआओं में अपनी असर चाहता हुं, मैं तेरी महर

तुझसे मिलन की प्यास जगी है,

आओगे इक दिन ये आस लगी है,

सबेगम की अब मैं सहर चाहता हूं

दुआओं में अपनी असर चाहता हुं, मैं तेरी महर

Comments

comments




Related Posts

Updated: February 6, 2016 — 8:34 pm
Jai Jinendra 2 U © 2016